Saturday, July 2, 2022

आयुष मंत्रालय की प्रतिक्रिया पतंजलि पर देख नाखुश BJP सांसद सत्‍यपाल !, Tweet में…

Edited By : फरहान यूनुस………………………….. (इनपुट खबर ndtv)……

नई दिल्ली : बाबा रामदेव के पतंजलि ग्रुप की ओर से कोरोना महामारी से बचाव के लिए दवा लांच करने से जुड़ा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. पतंजलि ग्रुप की ओर से मंगलवार को कोरोना किट लांच करने के मुद्दे पर देश के आयुष मंत्रालय की प्रतिक्रिया सामने आई थी. पतंजलि की कोरोना टैबलेट के मामले में आयुष मंत्रालय ने संज्ञान लेते हुए कहा था कि उसे इस दवा के बारे में साइंटफिक स्टडी वगैरह की सूचना नही है. यही नहीं, आयुष मंत्रालय ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड से कोविड की दवा की कम्पोजिशन, रिसर्च स्‍टडी और सैम्पल साइज समेत तमाम जानकारी साझा करने को कहा था. ऐसा लगता है कि पतंजलि ग्रुप की दवा को लेकर आयुष मंत्रालय का यह रुख नरेंद्र मोदी सरकार में ही केंद्रीय मंत्री रह चुके और मौजूदा बीजेपी सांसद डॉ. सत्‍यपाल सिंह को पसंद नहीं आया है. उन्‍होंने इशारों-इशारों में इसे लेकर आयुष मंत्रालय पर ‘हमला’ बोला है.

यूपी के बागपत से बीजेपी सांसद सत्‍यपाल सिंह (फ़ाइल फोटो)

यूपी के बागपत से बीजेपी सांसद सत्‍यपाल सिंह सियासत के मैदान में उतरने से पहले मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर रह चुके हैं. उन्‍होंने इस मुद्दे पर एक ट्वीट में लिखा-यह सही समय है जब आयुर्वेद के आचार्य, आयुर्वेद प्रेमी, तथा भारत सरकार मिलकर आयुर्वेद को योग की तर्ज पर दुनियां में स्थापित कर सकते हैं. समय बड़े स्वार्थों को समझने का है,विवाद का नहीं, संवाद का है. ट्वीट में उन्‍होंने आयुष मंत्रालय, पीएमओर, पीएम नरेंद्र मोदी, आचार्य बालकृष्‍ण, बाबा रामदेव और पतंजलि ग्रुप को भी टैग किया है.

गौरतलब है कि पतंजलि ग्रुप की ओर से लांच की गई ‘कोरोना किट’ (Corona Drug) को लेकर आयुष मंत्रालय की ओर से मंगलवार शाम को कहा गया था कि जांच होने तक पतंजलि ग्रुप को इस दवा का प्रचार-प्रसार बंद कर देना चाहिए. अब पतंजलि ग्रुप की कोरोना दवा को लेकर सरकार के आयुष मंत्री श्रीपद नाइक की प्रतिक्रिया सामने आई है. केंद्रीय मंत्री नाइक ने कहा कि यह एक अच्छी बात है कि योगगुरु ने देश को एक नई दवा दी है, लेकिन इसे आयुष मंत्रालय की ओर से उचित अनुमति की जरूरत है. उन्‍होंने पुष्टि की कि पतंजलि ग्रुप ने इस दवा से संबंधित दस्तावेज कल ही मंत्रालय को भेजे थे.

आयुष मंत्री ने कहा, “यह अच्छी बात है कि बाबा रामदेव ने देश को एक नई दवा दी है, लेकिन नियमों के अनुसार, उन्‍हें पहले आयुष मंत्रालय में आना होगा. मंत्री ने यह भी कहा कि उन्होंने एक रिपोर्ट भी भेजी है. हम इस पर विचार करेंगे और रिपोर्ट देखने के बाद अनुमति दी जाएगी.’ केंद्रीय मंत्री ने जोर देकर कहा, “कोई भी दवाई बना सकता है. जो कोई भी दवा बनाना चाहता है, उसे आयुष मंत्रालय के टास्क फोर्स से गुजरना पड़ता है. सभी को आयुष मंत्रालय को पुष्टि के लिए अनुसंधान का विवरण भेजना पड़ता है. यह नियम है और कोई भी इसके बिना अपने उत्पादों का विज्ञापन नहीं कर सकता है.”

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,374FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles