Thursday, October 6, 2022

तुर्की : हागिया सोफिया म्यूजियम को मस्जिद में बदलने पर मुहर लगी

( Inputed Web Desk )

तुर्की : शुक्रवार 10 जुलाई को, तुर्की की सर्वोच्च अदालत ने पिछले फैसले को निरस्त कर दिया है, जिसमें 1934 में एक मस्जिद से हागिया सोफिया को एक संग्रहालय में परिवर्तित किया गया था, और साइट पर की जा रही नमाज पर प्रतिबंध लगा दिया था।

तुर्की के सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद अब हागिया सोफिया को एक मस्जिद के तौर पर इस्तेमाल करने का रास्ता साफ हो गया है। इसी बीच तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तियाब एर्दोआन ने ट्विटर पर एक पोस्ट कर मुस्लिम समुदाय को बधाई दी है। आपको बता दे इसका निर्माण मूल रूप से एक कैथेड्रल चर्च के रूप में छठी शताब्दी में किया गया था हागिया सोफिया दुनिया में बीजान्टिन ईसाई वास्तुकला का सबसे बड़ा उदाहरण है। लेकिन अपने लंबे इतिहास में, यह ईसाई-मुस्लिम दोनों के बीच लड़ाई का एक मूल कारण भी रही है, उस्मानिया सल्तनत (ऑटोमन एम्पायर) ने इसे ईसाईयों से जीत कर मस्जिद में रूपांतरित कर दिया था।

हालाकि उस्मानिया सल्तनत के खात्मे के बाद तुर्की में लोकतंत्र आ गया और इस मस्जिद में नमाज पर रोक लगाते हुए इसे फिर से एक संग्रहालय बना दिया गया। पिछले 80 वर्षों से यह एक संग्रहालय है, जो सभी के लिए खुला है, रिश्तेदार सद्भाव का एक स्मारक और धर्मनिरपेक्षता का प्रतीक है जो आधुनिक तुर्की राज्य की नींव का हिस्सा था.

शुक्रवार को तुर्की के सुप्रीम कोर्ट ने 80 साल पुराने को रद्द करते हुए इसको फिर से मस्जिद बनाने का आदेश सुनाया है और अब इससे संग्रहालय का दर्जा छीन लिया गया है। आपको बता दे इस फैसले के पीछे तुर्की राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन हाथ बताया जा रहा है क्यों की तुर्की में लंबे समय से इस इमारत को फिर से मस्जिद बनाने की मांग उठती रही है और एर्दोआन ने भी इसे पूरा करने का वादा किया था,जिसके बाद उनकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही है।

हालाकि ईसाई जगत में इस फैसले कि निंदा की जा रही है वहीं अमेरिका, यूरोप और रूस ने तुर्की से यह कदम नहीं उठाने के लिए चेतावनी दी थी फिर भी आज शुक्रवार को तुर्की के सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए हागीया सूफिया को फिर से मस्जिद बनाने का आदेश दे दिया है।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,514FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles