Sunday, July 3, 2022

बांद्रा : अमित शाह ने प्रवासी मजदूरों की भीड़ जुटने पर उद्धव ठाकरे को फोन किया, कहा- ‘ऐसी घटनाओं से…’

गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को फोन किया और बांद्रा में प्रवासियों की भीड़ जुटने की घटना पर चिंता व्यक्त की.

गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को फोन किया और बांद्रा में प्रवासियों की भीड़ जुटने की घटना पर चिंता व्यक्त की. गृह मंत्री ने जोर देकर कहा कि इस तरह की घटनाओं से कोरोनावायरस (Coronavirus) के खिलाफ भारत की लड़ाई कमजोर होती है और प्रशासन को ऐसी घटनाओं से बचने के लिए सतर्क रहना होगा. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार को मेरा पूरा समर्थन है

बता दें कि देश में जारी लॉकडाउन (Lockdown) के बीच घर लौटने के लिए हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर मुंबई के बांद्रा (Bandra) में मंगलवार को जमा हो गए. इसके बाद भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुसिस ने लाठीचार्ज किया. इन मजदूरों की मांग थी कि उन्हें उनके घर वापस भेजा जाए. इसे लेकर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने केंद्र सरकार पर हमला बोला. आदित्य ठाकरे (Aaditya Thackeray) ने इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया. 

Aaditya Thackeray@AUThackeray

The current situation at Bandra Station, now dispersed or even the rioting in Surat is a result of the Union Govt not being able to take a call on arranging a way back home for migrant labour. They don’t want food or shelter, they want to go back home21.6K6:13 PM – Apr 14, 2020Twitter Ads info and privacy17.1K people are talking about this

आदित्य ठाकरे ने ट्वीट किया, ‘बांद्रा स्टेशन की मौजूदा स्थिति, या यहां तक कि सूरत में दंगा भी हो रहा है, यह केंद्र सरकार द्वारा प्रवासी श्रमिकों के लिए घर वापस जाने की व्यवस्था करने में सक्षम नहीं होने का एक परिणाम है. वे भोजन या आश्रय नहीं चाहते, वे घर वापस जाना चाहते हैं.

इस बीच महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देखमुख का कहना है कि बांद्रा स्टेशन के बाहर एकत्र हुए सैकड़ों प्रवासी मजदूरों/कामगारों को संभवत: आशा रही होगी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य की सीमाओं को खोलने का आदेश देंगे. उन्होंने कहा कि पुलिस ने उन्हें (प्रवासियों का) बता दिया है कि सीमाएं नहीं खुलेंगी और स्थिति अब नियंत्रण में है. मंत्री ने कहा कि प्रवासियों को यह आश्वासन दिये जाने के बाद कि उनके रहने-खाने की व्यवस्था राज्य करेगा, भीड़ अपने-आप हट गयी.

देशमुख ने कहा, ‘मुंबई में दूसरे राज्यों से आए लाखों लोग काम करते हैं. उन्होंने आशा की थी कि प्रधानमंत्री आज सीमाएं खोल देंगे. उन्हें लगा कि वे अपने गृह राज्य वापस जा सकेंगे.’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) ने लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का बहुत सही फैसला किया है. राज्यों की सीमाएं सील रहेंगी. महाराष्ट्र से दूसरे राज्यों में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी.’   

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,376FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles