Thursday, April 18, 2024

बिहार : आकाशीय बिजली गिरने से लोगों की मौत, PM मोदी ने जताई संवेदना

पटना : बिहार के विभिन्न जिलों में आकाशीय बिजली गिरने की वजह से अब तक 83 लोगों को मारे जाने की सूचना है. राज्य सरकार ने मृतकों के परिवारवालों के लिए आर्थिक सहायता का ऐलान किया है वहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है.

राज्य के अलग अलग जिलों में आकाशीय बिजली गिरने से अब तक 83 लोगों की मौत हो चुकी है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बिहार राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग ने यह जानकारी दी है आकाशीय बिजली गिरने से राज्य में 83 लोगों की मौत हो चुकी है, सबसे ज्यादा मौतें राज्य के गोपालगंज जिले में हुई हैं. यहां 13 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है. राज्य की नीतीश कुमार सरकार ने मृतकों के परिवारों को आर्थिक सहायता देने का निर्देश दिया है. राज्य सरकार के जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को 4-4 लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है. 

पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है.

आकाशीय बिजली गिरने की घटना में सबसे ज्यादा मौतें गोपालगंज में हुई हैं. यहां 13 लोगों के मारे जाने की खबर है. इसके बाद मधुबनी में 8, नवादा में 8, भागलपुर में 6 मौतें हुई हैं. वहीं पूर्वी चंपारण, सीवान और बांका में 5-5 लोगों के मारे जाने की खबर है. इसके अलावा खगड़िया में 3, पश्चिमी चंपारण  में 2, समस्तीपुर में 1, किशनगंज में 2, शिवहर में 1, सारण में 1, जहानाबाद में 2, सीतामढ़ी में 1, जमुई में 2, , पूर्णिया में 2, सुपौल में 2, औरंगाबाद में 3, बक्सर में 2, मधेपुरा में 1 और कैमूर में 2 लोगों की मौत पर सीएम नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है.

मुख्यमंत्री ने कहा है कि आपदा की इस घड़ी में वे प्रभावित परिवारों के साथ हैं. मुख्यमंत्री ने तत्काल मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि सभी लोग खराब मौसम में पूरी सतर्कता बरतें. सीएम ने राज्य के लोगों से अपील की है कि खराब मौसम होने पर आकाशीय बिजली से बचाव के लिए आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा समय समय पर जारी किए गए सुझावों का अनुपालन करें. उन्होंने कहा है कि खराब मौसम में घरों में रहें और सुरक्षित रहें.

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,909FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles