Saturday, July 2, 2022

chhattisgarh : 18 मई से शहरी जिंदगी कैसी होगी, इस पर केंद्र सरकार के शहरी मंत्रालय ने शुरू कर दिया डिजिटल सर्वे

वाट्सएप के जरिए होगा रोजगार पंजीयन सर्टिफिकेट का नवीनीकरण : ऐसा युवा जिनका रोजगार पंजीयन सर्टिफिकेट की मान्यता खत्म हो रही है, वे अब वाट्सएप पर अपने कार्ड को रिन्युवल करवा सकते हैं। इसके एक हफ्ते बाद वे दफ्तर से ही ओरिजनल सर्टिफिकेट ले सकते हैं। इसके अलावा जिले के युवाओं को कैरियर बनाने की जानकारी भी अब ऑनलाइन दी जाएगी। इस ऑनलाइन काउंसिलिंग में शामिल होने के लिए युवाओं को exchange.cg.nic में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इन सबके लिए एक ही व्हॉट्सएप नंबर 79991-00525 जारी किया गया है।

आपके जवाब तय करेंगे, लॉकडाउन के बाद की जिंदगी

 अब ड्राइविंग लाइसेंस की वैलिडिटी जून तक मान्य : लॉकडाउन के कारण ड्राइविंग लाइसेंस या परमिट और पंजीकरण जैसे मोटरयान के दस्तावेजों की वैधता 30 जून तक बढ़ा दी गई है। पीएचक्यू ने सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी कर कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान केंद्रीय मोटरयान अधिनियम, 1988 एवं केंद्रीय मोटरयान नियम 1989 से सम्बंधित दस्तावेजों की वैधता 1 फरवरी 2020 को समाप्त हो गई है या 30 जून, 2020 तक समाप्त हो जाएगी, उन्हें 30 जून, 2020 तक वैध माना जाएगा। 

आपके जवाब तय करेंगे, लॉकडाउन के बाद की जिंदगी
लाॅकडाउन भले ही आगे बढ़ जाए, लेकिन 18 मई यानी सोमवार से शहरी जिंदगी कैसी होगी, इस पर केंद्र सरकार के शहरी मंत्रालय ने डिजिटल सर्वे शुरू कर दिया है। राजधानी समेत प्रदेश के तीनों स्मार्ट शहरों में लोगों से रायशुमारी की जा रही है कि जिंदगी की जरूरतें क्या हैं? सर्वे में दर्जनभर सवाल पूछे गए हैं, जो दिलचस्प हैं। 

डिजिटल सर्वे में ये होंगे सवाल : –

  • साइकिल चलाना जानते हैं या नहीं? 
  • कितनी देर पैदल चलते हैं?
  • घर वालों के साथ हफ्ते में कितनी बार बाहर घूमने जाते हैं ?
  • धार्मिक यात्राएं कितनी बार? 
  • लॉकडाउन खुला तो पढ़ने या नौकरी के लिए दूसरे शहर जाएंगे या नहीं? 
  • कोरोना के कारण किस तरह के बदलाव का सोच रहे हैं शहर या नौकरी? 
  • सप्ताह में कितनी बार अन्य शहरों की यात्रा करते हैं? 
  • हफ्ते में कितनी बार रेस्टारेंट होटल में खाना खाते हैं?

छत्तीसगढ़ में कोरोना  संक्रमण :

  • छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के अब तक 67 मामले सामने आ चुके हैं। 
  • संक्रमितों में अब तक सबसे ज्यादा कोरबा जिले से 28, सूरजपुर 6, रायपुर 7, दुर्ग 9, कवर्धा 6, राजनांदगांव और बिलासपुर से एक-एक जांजगीर से 5, कोरिया से 1 और बालोद से 2 पॉजिटिव सामने आ चुके हैं।
  • प्रदेश में अब एक्टिव केस की संख्या 11 है। 
  • कोरबा का कटघोरा कंटेंमेंट जोन है। यहीं सबसे ज्यादा मामले सामने आए थे। बीते 16 अप्रैल के बाद कोई नया केस नहीं आया है। यहां के सभी संक्रमित ठीक हो चुके हैं। 
  • राज्य में कोरोना पॉजिटिव का पहला मामला रायपुर में मार्च के महीने में सामने आया था, वह विदेश से लौटी युवती थी।
  •  अब जिन लोगों में कोरोना संक्रमण दिख रहा है, उनमें से कोई भी विदेश से लौटा व्यक्ति नहीं है, सभी सामान्य नागरिक या श्रमिक हैं। 

रायपुर : कोरोना के मरीजों का इलाज अब केवल एम्स में नहीं होगा बल्कि अंबेडकर और माना के कोविड अस्पताल में भी संक्रमित भर्ती किए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों ने इसके लिए सहमति दे दी है। अंबेडकर अस्पताल में 40 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार है। 80 बेड का निर्माण चल रहा है। माना में 100 बिस्तर वाला अस्पताल तैयार हो चुका है। रायपुर के अलावा बिलासपुर, रायगढ़, अंबिकापुर, राजनांदगांव, जगदलपुर स्थित मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में भी कोरोना पीड़ितों को भर्ती किया जाएगा। 

बिलासपुर : जांजगीर-चांपा जिले से लाए गए 5 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। डर है कि कहीं इनके संपर्क में आए लोग भी संक्रमित न निकल जाएं। अहमदाबाद से आई जिस ट्रेन से ये पांचों मजदूर आए थे, उसमें बिलासपुर आए सभी लोगों की दोबारा जांच जा रही है। शुक्रवार रात से अब तक 402 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। सीएमएचओ डॉक्टर प्रमोद महाजन ने बताया कि वैसे तो उस ट्रेन से 900 लोग आए थे, लेकिन सर्दी, खांसी और जिनमें संक्रमण का संदेह है उन्हीं के सैंपल लिए जा रहे हैं। 

जांजगीर : जिस क्वारेंटाइन सेंटर में पांच काेरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, उस पूरे गांव को अब कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति और अपरिहार्य स्वास्थ्य गत आपातकालीन परिस्थितियों को छोड़कर आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। अब तक ग्रीन जोन में शामिल जांजगीर-चांपा जिला अब पांच पॉजिटिव केस आने के बाद संवेदनशील हो गया है। श्रमिकों की वापसी के साथ ही यह दायरा बढ़ भी सकता है।

  भिलाई : जिले में काेरोना के साथ अब डेंगू भी पैर पसारने लगा है। कैंप-2 के संतोषी पारा में चार लोगों को अपनी चपेट में लेने वाले डेंगू ने अब कैंप-1 शास्त्री नगर की 30 वर्षीय युवती को चपेट में ले लिया है। सुपेला के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में शनिवार को रैपिड किट से हुई जांच में इसकी पुष्टि हुई है। करीब 20 दिन पहले यह महिला कैंप-2 स्थित शांतिपारा गई थी। वहां से लौटने के पांच दिनों बाद ही उसे बुखार आ गया है। तीन दिन तक दवा लेने से नहीं उतरा तब शासकीय अस्पताल, सुपेला पहुंचकर डेंगू की जांच कराई है।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,373FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles