Monday, May 23, 2022

थैंक यू मोदी जी–हम कम से कम एशिया गुरु तो हुए!

थैंक यू मोदी जी–हम कम से कम एशिया गुरु तो हुए!
(व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा)

विपक्ष वालों ने ये क्या हद्द ही नहीं कर दी! मोदी जी के विरोध के चक्कर में अब क्या भारत के पिछड़ने का भी जश्न मनाया जाएगा? बेचारे भगवाइयों ने गांधी जी को गोली लगने पर जरा सी मिठाइयां वगैरह क्या बांट दी थीं, सत्तर-पहचत्तर साल बाद भी बेचारों को ताने सुनने पड़ते हैं। हरेक 30 जनवरी को तो खासतौर पर। तब राष्ट्र के पिछड़ने पर हंसी-ठट्ठा करने वालों को, देशभक्त दिल से कैसे माफ कर पाएंगे!

बताइए, कोविड से मौतों की सरकारी गिनती पांच लाख के पार होने पर, बेचारी सरकार ने न सिर्फ अपने देश की गिनती बतायी, बल्कि यह भी बताया कि पांच लाख से ऊपर के क्लब में हम अकेले नहीं हैं– ब्राजील और अमरीका भी हमारे साथ हैं।

पर बाकी हर चीज में “डाटा नहीं है” कहने वाली मोदी सरकार ने इस मामले में बिना किसी के मांगे, अपने मन से अपना तो अपना, दूसरे देशों का भी डाटा दे दिया। तब भी उसका ‘थैंक यू’ करना तो दूर, उल्टे भाई लोग उसकी हंसी उड़ा रहे हैं। कहते हैं कि उसने खुद अपने पांव पर कुल्हाड़ी मार ली। मरे दस, गिना एक के चक्कर में इंडिया को खुद ही ब्राजील और अमरीका से नीचे कर दिया और अपना बना-बनाया विश्व रिकार्ड दूसरों के हवाले कर दिया। गंगा में तैरतीं और नदी किनारे रेत में सोयी लाशों को ही गिनती में ले लेते, तो ये दिन नहीं देखने पड़ते। अब अपना रिकार्ड दुरुस्त करने के लिए कहें भी तो किस मुंह से? बनने चले थे विश्व गुरु और रह गए सिर्फ एशिया गुरु होकर! पर हम कहते हैं कि माना कि विश्व गुरु बनने का चांस था, पर एशिया गुरु की हमारी कुर्सी भी कोई छोटी तो नहीं है। बी पॉजिटिव। एशिया गुरु बनने की कामयाबी भी तो देखो। वैसे भी इक्कीसवीं सदी तो कहते हैं कि हमारे एशिया की ही सदी है।

फिर, एशिया गुुरु का हमारा दर्जा कोई कोविड की मौतों तक ही सीमित नहीं है। एकदम गर्मागर्म खबर यह है कि अडानी जी का एशिया के सबसे मालदार बंदे का और इंडिया का एशिया गुरु का दर्जा अब पक्का हो गया है। अडानी जी ने चीन-जापान वगैरह के सबसे मालदारों को तो पछाड़ा ही है, अपने गुजराती भाई मुकेश अंबानी को भी आखिरकार पछाड़ ही दिया। यह दूसरी बात है कि मुकेश भाई भी, अडानी जी से ही पीछे हैं, वर्ना एशिया में दूसरा नंबर उनका ही है। जो एशिया को दौलतमंद नंबर एक और दौलतमंद नंबर दो, दोनों दिलाए, वह एशिया गुरु कैसे नहीं कहलाए! फिर यह मानना भी तो सही नहीं होगा कि हमारे बंदे एशिया के दौलतमंद नंबर वन और नंबर टू सिर्फ अपने पुरुषार्थ से बन गए हैं। मोदी जी को इसका श्रेय नहीं चाहिए, पर मां भारती को तो अपने पुत्रों की इस सफलता का पूरा श्रेय मिलना ही चाहिए। नया इंडिया अगर कोविड की आपदा में अवसर खोजने और अवसर दिलाने में चूक जाता, तो क्या हमारे दो में से कोई भी एशिया में धनपति नंबर-1 बन पाता? नंबर वन बनने के लिए अडानी जी को कोविड के दूसरे साल में ही अपनी दौलत दुगनी करनी पड़ी है। आपदा को अवसर बनाने में अडानी जी से ही पिछड़ गए, वर्ना आपदा को अवसर तो अंबानी जी ने भी बनाया था। पर कहां आपदा के दूसरे साल में दौलत का दोगुना होना और कहां सिर्फ दस फीसद का इजाफा। पर नंबर वन भी हमारा, नंबर टू भी हमारा, न्यू इंडिया हर हाल में एशिया गुरु।

वैसे ऐसा भी नहीं है कि हम हर मामले में एशिया गुरु के कुर्सी पर ही अटके हुए हों। और भी नंबर वन हैं दुनिया में कोविड की मौतों या दौलतवालों के नंबर वन के सिवा। बाकी छोड़िये, उस अमृत काल को ही ले लीजिए, जो नये इंडिया में अभी-अभी लगा है। पच्चीस साल न सही, पर अभी कुछ समय सब अमृतकालमय रहेगा, जैसे पहले अच्छेदिनमय रहा था और फिर नया इंडियामय।

अब तो अमृतकालमय बजट भी आ गया, जो एक साथ बजट भी है और सपना भी है। पचहत्तर साल तो दुनिया में बहुतों के हुए होंगे, पर क्या पचहत्तरवें साल से कोई देश अब तक सीधे अमृतकाल में गया है? नहीं ना। हम जा चुके हैं। अमृतकाल, अमृतकाल का मंत्रजाप करते-करते अब तक किसी ने सालाना बजट को पच्चीस साल लंबा किया है? नहीं ना। हमने अभी-अभी किया है। किसी ने बजट को करीब-करीब आंकड़ा-मुक्त किया है? आंकड़ा-मुक्त सरकार का, आंकड़ा-मुक्त बजट या बजट-मुक्त बजट। हमने किया है। विश्व गुरु के आसन के लिए हम किसी कोविड, किसी धनपति के मोहताज नहीं हैं। अपने अमृतकाल के मैदान में तो हम ही हैं नंबर वन।

और सिर्फ अमृतकाल के मैदान में ही थोड़े ही। त्याग के मैदान में भी कौन है जो हमसे होड़ लेेगा। देखा नहीं, योगी जी का सर्वस्व त्याग कैसे चुनाव आयोग के सामने उनके पर्चा भरने के समय की घोषणा में एकदम छलक कर सामने आ गया है। त्याग के मामले में तो योगी जी, अपने मोदी जी से भी दो-चार कदम आगे ही बैठेंगे। न जोरू न जांता, डायरेक्ट रामलला से नाता। न कोठी न बंगला। न कार, न थार। और तो और वार्डरोब भी एकदम सिंपल–भगवा वेश। नकदी के नाम पर बैंकों में बस कुछ चिल्लर और कुल डेढ़ करोड़ की जमा राशि। और तो और, पहले बाबा जी के पास डेढ़-दो दर्जन केस-वेस थे भी, सीएम बनने के बाद बंदे ने सारे केसों का भी त्याग कर दिया और केसों का जमा-खाता शून्य कर दिया। बस उन सब मामलों के स्मृति चिन्ह के रूप में, एक लाख रुपए की एक रिवाल्वर बची है। चाहेें तो उसे ही योगी जी की संपत्ति कह सकते हैं। और बाबा ने पांच साल में बहुतेरे नाम बदले हैं, उनका नाम बदलकर रिवाल्वर बाबा कर सकते हैं। खैर! बाबा का नाम अपनी जगह, रिवाल्वर वाले बाबा के बाद इंडिया के विश्व गुरु होने पर किसी को शक रह सकता है क्या? है किसी में हिम्मत!

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और लोक लहर के संपादक हैं।)

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,321FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
spot_img
spot_img

Latest Articles