Monday, May 23, 2022

ग्रीन केयर सोसायटी द्वारा यूनेस्को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उत्सव का हुआ समापन

ग्रीन केयर सोसायटी द्वारा यूनेस्को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उत्सव का हुआ समापन

• “चेंजिंग कोर्स, ट्रांसफॉर्मिंग एजुकेशन” विषय के तहत 15 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उत्सव 2022 आयोजित किया गया।

• लर्निंग प्लैनेट इंस्टीट्यूट पेरिस फ्रांस, बेटेनकोर्ट श्यूलर फाउंडेशन, पेरिस यूनिवर्सिटी के शिक्षा सम्मेलन में भारत से अमुजुरी बिश्वनाथ लिया हिस्सा।

दंतेवाड़ा :-
ग्रीन केयर सोसायटी इंडिया छत्तीसगढ़ द्वारा संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन यूनेस्को के सहयोग से “चेंजिंग कोर्स, ट्रांसफॉर्मिंग एजुकेशन” विषय पर 24 जनवरी 2022 अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के अवसर पर उत्सव अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उत्सव 24 जनवरी से 7 फरवरी तक ऑनलाइन व ऑफलाइन माध्यम से मनाया गया। दंतेवाड़ा जिले के गीदम विकास खंड अंर्तगत ग्राम जावांगा में शिक्षा जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। कोरोना महामारी के प्रभाव से दंतेवाड़ा जिले में विद्यालय, शैक्षणिक संस्थानों सभी बंद हुआ था।समाज में शिक्षा की बहुत ही जरूरत समझ कर ग्रीन केयर सोसायटी इंडिया के डायरेक्टर तथा अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक संपर्क अधिकारी अमुजुरी बिश्वनाथ ने ग्राम जावांगा के बच्चों के पास पोहुंचे और “पढ़े लिखे दंतेवाड़ा, पढ़े लिखे छत्तीसगढ़, पढ़े लिखे भारत”, शिक्षा सबका मौलिक अधिकार का पोस्टर प्रदर्शन करते हुए शिक्षा जागरुकता कार्यक्रम किया। पठन, गणितीय कौशल, भारत का संविधान पुस्तक, बिस्कुट वितरण किया। अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उत्सव 2022 कार्यक्रम ग्रीन केयर सोसायटी इंडिया द्वारा युनेस्को, भारत सरकार विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग के अंर्तगत भारतीय विज्ञान कांग्रेस संस्था, ऑल इंडिया रामानुजन मैथ्स क्लब, आस्था विद्या मंदिर जावंगा, राष्ट्रीय शिक्षक वैज्ञानिक परिषद भारत, रमन साइंस एंड टेक्नोलॉजी फाउंडेशन, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम नेशनल काउंसिल ऑफ यंग साइंटिस्ट्स और इग्नाइटिंग ड्रीम्स ऑफ यंग माइंड्स फाउंडेशन इंडिया सहयोग से आयोजित किया गया। शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय जावंगा के प्रधान अध्यापक तथा राज्यपाल शिक्षा अवार्ड प्राप्तकर्ता शोभाराम निषाद ने कहा कि शिक्षा से वंचित बच्चों को भी शिक्षा उपलब्ध करानी चाहिए और अशिक्षित माता पिता को जागरुक करके बच्चों को विद्यालय में दाखिल करना है और ऐसे शिक्षा जागरुकता कार्यक्रम हर गांवों में होनी चाहिए। यूनेस्को, लर्निंग प्लैनेट इंस्टीट्यूट पेरिस फ्रांस, बेटेनकोर्ट श्यूलर फाउंडेशन, पेरिस यूनिवर्सिटी के द्वारा “स्वयं, दूसरों व विश्व को देखभाल करने हेतु अधिगम” विषय पर आयोजित शिक्षा सम्मेलन में भारत से अमुजुरी बिश्वनाथ हिस्सा लिया। जिसमें 163 देशों के 262 संस्थाओं से 22342 लोग 446 विधाओं में शिक्षा और अधिगम पर चर्चा किया। ग्रीन केयर सोसायटी इंडिया के अध्यक्ष डॉ विश्वनाथ पाणिग्रही ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य नंबर 4 गुणवत्ता शिक्षा को सार्वजनिक प्रयास और सामान्य भलाई के रूप में मजबूत किया जाए, डिजिटल परिवर्तन को आगे बढ़ाया जाए और समान गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सबको उपलब्ध होनी चाहिए। डायरेक्टर अमुजुरी बिश्वनाथ ने कहा कि इस वर्ष का अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस कार्यक्रम सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तनों को प्रदर्शित करने का एक मंच मिला जिसे शिक्षा समावेशी और शांतिपूर्ण भविष्य का निर्माण करने के लिए पोषित किया गया और कौशल प्रशिक्षण शिक्षा से अजीविका का सोपान मिला। यह कार्यक्रम में संस्था के सदस्य ईश्वरी प्रसाद नायक, राहुल मरकाम, रुद्र विजय उद्गीरवार, शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय जावंगा के शिक्षिका पार्वती कश्यप, सुमन दास और गांव के बच्चें उपास्थित थे।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,321FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
spot_img
spot_img

Latest Articles