Monday, December 5, 2022

सभी कक्षाओं की ऑनलाइन अथवा ब्लेंडेड परीक्षा कराना विश्वविद्यालयाें के सामने नई चुनौती

रायपुर सभी कक्षाओं की ऑनलाइन अथवा ब्लेंडेड परीक्षा कराना विश्वविद्यालयाें के सामने नई चुनौती

:छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन अथवा घर से ही ली जाएंगी परीक्षाएं; सुबह आया ऑफलाइन परीक्षा का आदेश बदला

सभी कक्षाओं की ऑनलाइन अथवा ब्लेंडेड परीक्षा कराना विश्वविद्यालयाें के सामने नई चुनौती होगी। ऑनलाइन परीक्षा के लिये उन्हें संसाधनों पर भी ध्यान देना होगा।

छत्तीसगढ़ के राजकीय और निजी विश्वविद्यालयो में कोई भी परीक्षा विद्यार्थी को केंद्रों में बुलाकर नहीं ली जाएगी। सभी परीक्षाएं ऑनलाइन अथवा घर में प्रश्नपत्र भेज कर ली जाएंगी। कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने इसका आदेश जारी कर दिया है। इससे पहले आज सुबह ही ऑफलाइन परीक्षा कराने का आदेश आया था, जिसे बदल दिया गया है।


उच्च शिक्षा विभाग के सचिव धनंजय देवांगन ने बताया, “कोरोना संक्रमण को देखते हुए विश्वविद्यालयों में किसी भी तरह की ऑफलाइन परीक्षा पर रोक लगा दी गई है। अभी ऐसा करना ठीक नहीं लग रहा है। विश्वविद्यालयों को ऑनलाइन अथवा ब्लेंडेड परीक्षा लेने की अनुमति दी जा रही है। जल्दी ही इसके आदेश जारी हो जाएंगे। ब्लेंडेड परीक्षा में प्रश्नपत्र को विद्यार्थी के घर भेजकर एक निश्चित समय में उत्तर पुस्तिका मंगाई जाती है।”


उच्च शिक्षा सचिव ने बताया, “स्नातक और स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष की परीक्षा महत्वपूर्ण होती है। इसलिए यह परीक्षा ऑनलाइन ली जाएगी। अब विश्वविद्यालयाें को तय करना है कि वे परीक्षा का कौन सा तरीका अपनाते हैं। विश्वविद्यालय अपने संसाधनों के मुताबिक व्यवस्था करेंगे।” उच्च शिक्षा विभाग ने बुधवार शाम तक नया आदेश जारी कर दिया। विश्वविद्यालय प्रशासन और विद्यार्थी, लंबे समय से परीक्षाओं को लेकर असमंजस में थे। नये आदेश से यह असमंजस एक हद तक खत्म हो गया है।
आफलाइन परीक्षा के लिए सरकार से पूछना हाेगा
नये आदेश में साफ तौर पर कह दिया गया है, विश्वविद्यालय आफलाइन परीक्षा नहीं कराएंगे। अगर कोई विश्वविद्यालय ऐसा करना चाहता है तो उसे सरकार से अनुमति लेनी होगी। कोरोना संक्रमण को देखते हुये स्कूल शिक्षा विभाग पहले ही बोर्ड परीक्षाओं को छोड़कर सभी विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन देने का निर्णय ले चुका है। माध्यमिक शिक्षा मंडल 10वीं बोर्ड परीक्षा को रद्द कर चुका है।
सुबह ऑफलाइन परीक्षा का आदेश हो गया था
उच्च शिक्षा विभाग के सूत्रों ने बताया, विभाग के उप सचिव जीएल सांकला के हस्ताक्षर से बुधवार को ऑफलाइन परीक्षा का आदेश जारी हो गया था। यह आदेश केवल अंतिम अथवा अंतिम सत्र की परीक्षाओं के लिए था। शेष कक्षाओं की परीक्षा ऑनलाइन अथवा ब्लेंडेड कराने का निर्देश दिया गया था। बाद में इस आदेश को निरस्त कर नया आदेश जारी किया गया।
करीब 8 लाख होंगे परीक्षार्थी
प्रदेश में उच्च शिक्षा के लिये राज्य सरकार के पास 8 राज्य विश्वविद्यालय और 13 निजी विश्वविद्यालय हैं। इन विश्वविद्यालयों से 521 महाविद्यालय संबद्ध है। इनमें से 265 सरकारी महाविद्यालय हैं। बताया जा रहा है कि प्रदेश भर के विश्वविद्यालयों की अध्ययनशालाओं और महाविद्यालयों में करीब 8 लाख विद्यार्थी हैं, जिनकी परीक्षा ली जानी है।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,593FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles