Home Social Activity जावंगा में विकासखंड स्तरीय मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित किया गया।

जावंगा में विकासखंड स्तरीय मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित किया गया।

जावंगा में विकासखंड स्तरीय मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित किया गया।

गीदम/दंतेवाड़ा :-
स्कूल शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन के आदेश पर जिला समग्र शिक्षा विभाग दंतेवाड़ा के सहायोग से गीदम शिक्षा विभाग द्वारा विकास खंड स्तर 2 दिवसीय मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला 15 एवं 16 मार्च को गीदम विकासखंड के जावंगा स्थित एजुकेशन सिटी ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया। जिला शिक्षा अधिकारी प्रमोद ठाकुर, जिला मिशन समन्वयक श्यामलाल सोरी, विकासखंड शिक्षा अधिकारी शेख़ रफीक, सहायक खंड शिक्षा अधिकारी भवानी पुनेम, खंड स्रोत समन्व्यय जितेंद्र शर्मा के मार्गदर्शन में यह कार्यशाला सुचारू रूप से संपन्न हुआ। प्रथम दिवस में कार्यशला निरीक्षण करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी प्रमोद ठाकुर, एपीसी नेहा नाथ, वेंकट ताती ने कहा कि विद्यालय एवं बच्चों की सुरक्षा के साथ साथ शिक्षक शिक्षिका व्यक्तिगत सुरक्षा भी बहुत ही जरूरत है, ताकि विद्यालय में शांत वातावरण हो। दूसरे दिवस में निरीक्षण करते हुए गीदम विकासखंड शिक्षा अधिकारी शेख़ रफीक ने शिक्षकों से सुरक्षा संबधित प्रश्न पूछे एवं उन्होंने कहा कि शाला सुरक्षा के सभी नियमों को ठीक तरीके से पालन करे। सहायक खंड शिक्षा अधिकारी भवानी पूनेम ने दो दिवसीय शाला सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यशाला को भव्य रूप में संचालित किया एवं वे स्वयं मंच पर अभिनय करके विध्यालय में सभी प्रकार के सुरक्षा जैसे कि बच्चों के रहन सहन, सौचालय व प्रांगण साफ सफाई, मध्यान भोजन में गुणवत्ता, स्वास्थ्य व स्वच्छता, पेयजल शुद्धता, व्यक्तिगत विकास के मुख्य बिंदुओं पर संबोधित किया। उपपुलिस अधीक्षक (साइबर/ यातायात) कृष्ण कुमार चंद्रा ने यातायात, साइबर क्राइम से सुरक्षा ऑनलाइन प्लेटफार्म सोशल मीडिया के प्रयोग में सावधानी से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी। इसी क्रम में डिप्टी कमांडेंट (नगर सेना/होमगार्ड) एनएस नेताम एवं टीम द्वारा अग्निशामक यंत्र का प्रयोग कर आग से होने वाले खतरे से कैसे बचाव करे का प्रदर्शन प्रस्तुत किया गया। थाना प्रभारी गीदम निरीक्षक सलीम खाका ने सड़क सुरक्षा एवं बाल अपराध की महत्वपूर्ण जानकारी दी गई। प्रशिक्षक के रूप में महेंद्र मंडावी, नारायण साहू, जितेंद्र चौहान ने प्रशिक्षण प्रदान किया एवं गाइडलाइन, पोस्को संबंधित समस्त प्रकार के बाल शोषण की जानकारी, सभी प्रकार के टोल फ्री नंबर तथा उनकी उपयोगिता के बारे में प्रशिक्षकों ने जानकारी दिया। विज्ञान व प्रदौगिकी विभाग भारत सरकार के भारतीय विज्ञान कांग्रेस संस्था के विशेषज्ञ अमुजुरी विश्वनाथ ने विज्ञान प्रयोगशाला सुरक्षा, परीक्षण के दौरान लिए जाने वाले सावधानी, प्रयोगशाला सामग्री सजावट के बारे में जानकारी दी। जिला परिवहन कार्यालय दंतेवाड़ा के वेदप्रकाश ने सड़क सुरक्षा से संबंधित समस्त जानकारी प्रदान किए। इस दौरान सुरक्षा संबंधी सामग्री सभी विद्यालयों को वितरण किया गया। शिक्षक शिक्षिका द्वारा स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण, जलवायु परिवर्तन, पेड़ पौधे लगाना, पाठ्यक्रम के तहत सुरक्षा पहलुओं विषय पर नाटक मंच प्रदर्शन कर जागरूकता किया। इस प्रशिक्षण में 33 संकुलों के समन्वयक एवं शिक्षक शिक्षिकाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। शाला आपदा प्रबंधन समिति के गठन एवं इसके उद्देश्य, सिद्धांत तथा इसकी उपयोगिता, जागरूकता एवं प्रसार समिति, अग्नि सुरक्षा समिति, बचाव दल गठन तथा इसके कार्यों की विस्तृत जानकारी दिया। इस कार्यक्रम में गीदम विकासखंड के सर्व प्रधान पाठक, सर्व संकुल समन्वयक, सर्व शिक्षक शिक्षिका उपस्थित थे।

Exit mobile version