Sunday, July 3, 2022

छ.ग./ ओड़गी थाने में पत्रकार द्वारा दिये गए शिकायत में महीनों बाद भी नही हुई कार्यवाही, मामला दबाने का प्रयास…..

News : Chhattsigarh Digest,,,,, Edited by : नाहिदा कुरैशी… फरहान युनूस…

सुरजपुर : जिले के ओड़गी पुलिस थाने में दैनिक समाचार पत्र के पत्रकार द्वारा दो-दो शिकायत आवेदन पत्र देने के बाद भी आज महीनों बीत जाने के बाद कोई कार्यवाही नही किये जाने से पुलिस के कार्यशैली पर उठ रहा सवालिया निशान, स्थानीय पत्रकारों सहित आमजनों में आक्रोश।

मामला ओड़गी ब्लॉक के अम्बिकावाणी समाचार पत्र के पत्रकार अरुण सिंह से सम्बंधित है जिनके द्वारा 02/03/2020 को शिकायत आवेदन पत्र ओड़गी थाने में उपस्थित होकर प्रस्तुत किया गया जिसमें उनके द्वारा उल्लेख किया गया था कि PWD विभाग के तहत हुए बेदमी घाट कटिंग के ठेकेदार अजय अग्रवाल द्वारा निर्माण कार्य से सम्बंधित जानकारी लेने पर अभद्र गाली गलौच व जान से मारने की धमकी देते हुए उनके कौड़ी का पत्रकार कहा गया ।

वहीं अरुण सिंह द्वारा दूसरा शिकायत आवेदन पत्र दिनांक 27/04/2020 को ओड़गी थाने में दिया गया. जिसमें कई अलग अलग नम्बरो से बार-बार फोन कर गाली गलौच करते हुए धमकी का उल्लेख किया गया । दोनों ही मामले में कोई भी कार्यवाही आज तक सामने नही आ सकी है जिसको लेकर स्थानिय पत्रकारों सहित आमजनों में भी स्थानीय पुलिस थाना प्रभारी के कार्यशैली पर सवालिया निशान उठ रहा है ।

पत्रकार का आरोप – पुलिस द्वारा ठेकेदार से सांठगांठ :

इस मामले में पत्रकार अरुण सिंह ने पुलिस थाना ओड़गी पर आरोप लगाते हुए बताया की उनके द्वारा थाने में की गई, शिकायत को लेकर की गई कार्यवाही के सम्बंध में जानकारी चाही गयी तो उनको तत्कालीन थाना प्रभारी द्वारा बार-बार अलग-अलग भ्रामक जानकारी देते हुए, कभी कहा जाता था की आपका शिकायत पत्र नही मिल रहा है, तो कभी कहा जाता था की ऑनलाइन एफआईआर दर्ज नही हो पाया है, तो कभी कहा जाता था की मामले में जांच हो रही है। वही उन्होंने यह भी आरोप लगाया है की पुलिस द्वारा ठेकेदार से सांठगांठ कर लिया गया है, जिस कारण ही शिकायत आवेदन पत्रों में जांच नही की जा रही है जिससे ठेकेदार का मनोबल और भी बढ़ गया जिससे वे मानसिक रूप से परेशान है एवम भयभीत है।

अप्रिय घटना घटित होती है तो उसके जिम्मेदार ठेकेदार व पुलिस विभाग होंगे :

वहीं अरुण सिंह द्वारा दिये गए दोनों ही शिकायत आवेदन पत्रों में लगभग तीन महीने बीतने के बाद भी जब कोई कार्यवाही सामने नही आयीं तो उनके द्वारा पुनः 26/06/2020 को ओड़गी थाने में एक आवेदन पत्र प्रस्तुत कर पूर्व में दिए गए दोनों ही आवेदनों पर जांच एवं कार्यवाही की मांग की गयी जिसमे अरुण सिंह द्वारा यह भी अंकित किया गया है की यदि उनके साथ कोई अप्रिय घटना घटित होती है तो उसके जिम्मेदार ठेकेदार अजय अग्रवाल व पुलिस विभाग होंगे।

वहीं इस सम्बंध में थाना प्रभारी ओड़गी से जानकारी लेने हेतु कई बार प्राप्त उनके मोबाइल नम्बर पर 9479193921 व 7828280079 पर फोन किया गया लेकिन उनके द्वारा काल रिसीव नही किया गया।

सवाल : पत्रकारों के द्वारा दिये गए शिकायत आवेदन पत्रों पर पुलिस विभाग का रवैया, तो आमजन, ग्रामीणों के शिकायत/आवेदन पत्रों पर कितनी कार्यवाही होती होगी ?

वहीं स्थानीय बुद्धजीवियों का इस मामले को लेकर यह कहना है की जब पत्रकारों के द्वारा दिये गए शिकायत आवेदन पत्रों पर जब पुलिस विभाग का रवैया ऐसा है तो आमजन , ग्रामीणों के शिकायत आवेदन पत्रों पर कितनी कार्यवाही होती होगी यह कोई भी आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है ।उन्होंने यह भी आरोप लगाया की ओड़गी थाने में आज के समय मे जिसके पास पैसा है उसी की चलती है ।अपराध करने वालो को मुँहमाँगा चढ़ावा लेकर पूर्ण संरक्षण दिया जा रहा है जिससे क्षेत्र में अपराध पूर्ण रूपेण अपने पैर पसार चुका है।

इस मामले को लेकर अ.भा.पत्रकार सुरक्षा समिति के प्रदेश सचिव अजय तिवारी द्वारा प्रदेश अध्यक्ष गोविंद शर्मा से विस्तृत चर्चा की गई. जिसमें उन्होंने कहा की पत्रकारों के कलम को दबाने का प्रयास किया जाना अत्यंत निंदनीय है, जो की कतई बर्दास्त नही किया जाएगा, यदि इस मामले में गम्भीरता से तत्काल संज्ञान में लेकर जांच व कार्यवाही नही की गई तो अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिती द्वारा प्रदेश स्तर पर आंदोलन किया जाएगा।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,376FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles