Monday, September 26, 2022

रायपुर/ बांस शिल्प बना वनवासियों के रोजगार का आधार – मंत्री गुरु रूद्रकुमार

Chhattisgarh Digest News Desk :

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन एवं  ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रूद्रकुमार की पहल पर बांस शिल्प वनवासियों के रोजगार का आधार बना है। मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने कहा कि अबूझमाड़ में निवास करने वाले वनवासी परिवार के लोगों को रोजगारमूलक बांस शिल्प के कार्य से जोड़ा गया है।

बांस शिल्प सामान्य सुविधा केंद्र दे रहा प्रशिक्षण

छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड के महाप्रबंधक (विकास) शंकर लाल धुर्वे ने बताया कि नारायणपुर जिले के बांस शिल्प सामान्य सुविधा केंद्र द्वारा जनजातीय परिवार के लोगों को निरंतर बांस शिल्प के कार्यों में प्रशिक्षण देकर डिजाईनिंग डेवलपमेंट के माध्यम से विभिन्न प्रकार के बांस से निर्मित फर्नीचर, घरेलू उपयोगी और सजावटी सामग्रियों का निर्माण कराकर रोजगार सृजन किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि जनजाति परिवारों के परंपरागत बांस शिल्प व्यवसाय से हटकर उपयोगी सामग्रियों का निर्माण सोफा सेट, टेबल, स्टूल, मोडा, पार्टीशन, रेक आदि के अतिरिक्त नवाचार करते हुए बांस के बास्केट, बटन, स्टॉपर, गमला पाट, पेन स्टैंड ,टी कोस्टर, लेम्प, पलंग एवं बॉस के ट्री गार्ड आदि प्रमुखता से निर्माण कराकर विक्रय किया जा रहा है।

इस केंद्र के माध्यम से रोजगार के सृजन से स्थानीय स्तर पर लगभग 40 परिवारों के 100 लोग लाभान्वित हो रहे हैं। बांस शिल्पकारों द्वारा तैयार किए गए बेंबू बॉक्स छत्तीसगढ़ खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड रायपुर, बेंबू बटन अपेक्स हैंडलूम हथकरघा विभाग, बेंबू स्टापर पुलिस अधीक्षक नारायणपुर और कोण्डागांव को मांग के अनुरूप आपूर्ति की गई। इसके अतिरिक्त यहां निर्मित बेंबू मोबाइल-कम-पेन स्टैंड, बेंबू लेम्प और बेंबू पलंग लोगों की पहली पसंद बन गई है।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,498FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles