Tuesday, November 29, 2022

सियासी घमासान/ कॉंग्रेस से मंत्री सचिन बर्खास्त, साथ 3 विधायक भी बाहर

chhattisgarh Digest News Desk :

राजस्थान/ जयपुर :  राजस्थान में पिछले 4 दिनों से चल रही सियासी घमासान का सिलसिला नाराज सचिन पायलट के दिल्ली पहुंचने से शुरू हुआ था जो कि आज सचिन समेत 3 कांग्रेस विधायकों को मंत्री पद पर हटाने तक आ पहुंचा है. कुल मिलाकर यह मामला एक बार फिर बीजेपी बनाम कांग्रेस का हो गया है.

कांग्रेस ने सचिन पायलेट समेत 3 विधायकों को मंत्री पद से हटाया.

कांग्रेस ने आरोप लगाए हैं कि बीजेपी, अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रही है. दूसरी मीटिंग में कांग्रेस ने सचिन पायटलट को आमंत्रित किया था लेकिन सचिन पहले ही अपने तेवरों से पार्टी को साफ कर चुके थे कि वह इस बार आर या पार के मूड में है. लिहाजा वह मीटिंग में नहीं पहुंचे. जिसके परिणामस्वरुप उन्हें न सिर्फ मंत्री पद से हटा दिया गया बल्कि पार्टी में दिए गए विभिन्न ओहदों से भी हटा दिया गया.

पूरी प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस के नेता सचिन के बजाय बीजेपी के खिलाफ ज्यादा आक्रामक नजर आए. उन्होंने कहा कि भाजपा ने एक षड्यंत्र के तहत राजस्थान की चुनी हुई सरकार को गिराने की साज़िश की गई है. भाजपा ने धनबल, सत्ता बल, ईडी और इनकम टैक्स विभाग का गलत इस्तेमाल किया गया है. पूरे देश ने देखा कि अशोक गहलोत सरकार के विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई. सचिन और कुछ विधायक भ्रमित होकर सरकार गिराने की साज़िश में शामिल हो गए. ये राजस्थान के स्वाभिमान को चुनौती देना है.

मुद्दे में अहम :

कांग्रेस की बैठक के बाद अशोक गहलोत राज्यपाल से मुलाकात करने के लिए राजभवन पहुंचे, लेकिन इसी बीच BTP के विधायकों ने वीडियो जारी कर कहा कि हमें कैद करके रखा गया है.

अगर BTP के विधायक सचिन खेमे में चले जाते हैं तो गहलोत खेमे के पास 100 विधायकों का समर्थन ही बाकी रह जाएगा. उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 101 विधायकों की जरूरत है. 

इस पूरे मामले पर बीजेपी ने बयान जारी करके कहा है कि अब विधायकों की परेड की अंतिम विकल्प है. 

बीजेपी के सूत्रों के अनुसार भारतीय जनता पार्टी ने पायलट से किसी भी तरह का वादा नहीं किया है. बीजेपी कोई कदम ले उससे पहले सचिन को अपनी स्थिति साफ करनी होगी. 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पायलट की अगुवाई को लेकर वसुंधरा राजे से चर्चा अभी बाकि है. मुख्यमंत्री पद के लिए फैसला विधायकों द्वारा ही लिया जाएगा.

अशोक गहलोत के करीबियों पर आयकर विभाग का छापा दूसरे दिन भी जारी है. तीनों ग्रुपों पर आयकर विभाग की छापेमारी अभी जारी है.

अभी तक की छापेमारी में लाखों रुपए कैश और अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं जिनमें विदेशों से भी पैसों का लेनदेन शामिल है. 

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,583FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles