Monday, June 27, 2022

15 देश ऐसे भी जहां कोरोना वायरस से संक्रमण का नहीं है कोई मामला

जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी की चपेट में है तब कुछ ऐसे भी देश हैं जहां कोविड-19 से संक्रमण का कोई भी मामला दर्ज़ नहीं किया गया है।

जॉन्स हॉपकिन्स युनिवर्सिटी सेंटर फॉर सिस्टम्स साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) के आंकड़ों के अनुसार ऐसे 15 देश हैं जो एशिया, अफ्रीका और ओशिनिया में हैं जहां संक्रमण के मामले नहीं आए हैं। सीएसएसई बीमारी के फैलने की मॉडलिंग और वास्तविक समय डैशबोर्ड के जरिए डाटा दिखाता है। अंटार्टिका में भी वायरस नहीं पहुंचा है जहां कोई मानव आबादी नहीं रहती है।

कुछ देश जहां संक्रमण के मामले सामने नहीं आए हैं वे ओशिनिया के दूर-सुदूर इलाकों में स्थित हैं जैसे कि मेलानिशिया, पोलिनिशिया, माइक्रोनिशिया के आइलैंड क्षेत्र। दो अफ्रीकी देशों में भी वायरस की अभी तक कोई पुष्टि नहीं हो सकी है, या अभी तक इसका पता नहीं चल सका है।

लेकिन ऐसी बहुत सी अटकलें हैं कि तीन एशियाई देश, जिनकी कोई प्राकृतिक सीमा नहीं है, संभवतः वास्तविक आंकड़े नहीं बता रहे हैं।

एशिया

एशिया के उत्तर कोरिया, तजाकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान से अभी तक कोई मामला नहीं आया है।

ये कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के देश से कोई मामला सामने नहीं आया है क्योंकि ये वैसे भी पूरी दुनिया से खुद को अलग कर रखता है और यहां से कोई भी सूचना किसी को नहीं मिलती है. उत्तर कोरिया की पूरी दुनिया में सबसे खराब मानवाधिकार रैकिंग है।

उत्तर कोरिया की सीमाएं उत्तर और पूर्व में चीन और रूस और दक्षिण में दक्षिण कोरिया से सीमाबद्ध है।

जबकि देश में सरकार द्वारा प्रायोजित मुफ्त स्वास्थ्य सेवा है लेकिन संभवत: यहां कोविड-19 के परीक्षण के लिए बिल्कुल भी साधन नहीं है। डब्ल्यूएचओ ने बताया है कि उत्तर कोरिया जनवरी में चीन से परीक्षण किट प्राप्त करने के बाद सक्रिय रूप से परीक्षण और क्वारेंटाइन कर रहा है, जबकि दक्षिण कोरिया ने बताया कि उसके पड़ोसी देश की सेना 30 दिनों के लिए लॉकडाउन में चली गई थी।

उत्तर कोरियाई नागरिक विशेष रूप से श्वसन संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील हैं, जो सालाना 11 प्रतिशत से अधिक मौतों का कारण बनता है। उनके पास हृदय रोग सहित उच्च सह-रुग्णताएं भी हैं, जो देश में मृत्यु का सबसे बड़ा कारण है। अधिकांश राजनीतिक और स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि यह संभावना नहीं है कि उत्तर कोरिया में अब तक कोई भी मामला सामने नहीं आया है।

मध्य एशिया में तजाकिस्तान एक लैंडलॉक देश है, जो अफगानिस्तान, उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान और चीन की सीमा से लगा हुआ है. इसका भूभाग लगभग 90 प्रतिशत पहाड़ी इलाका है। तजाकिस्तान ने शुरू में मार्च में 35 प्रभावित देशों के यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया था, लेकिन तुरंत अपना प्रतिबंध वापस ले लिया था। हालांकि, इसने यात्रियों को क्वारेंटाइन में रखा।

लेकिन तजाकिस्तान ने सार्वजनिक आयोजनों पर कोई रोक या प्रतिबंध नहीं लगाया है, और राष्ट्रपति इमोमाली रहमोन स्वयं सार्वजनिक आयोजनों में मार्च के अंत तक उपस्थित हुए हैं।

तजाकिस्तान को इंटरनेट और सूचना सेंसरशिप सहित मानवाधिकारों के लिए कम सम्मान के साथ एक निरंकुश राज्य के रूप में भी जाना जाता है।

यह अत्यंत उच्च शिशु और मातृ मृत्यु दर के साथ-साथ जल प्रदूषण और खराब पोषण के कारण जीवन प्रत्याशा में लगातार कमी के साथ-साथ मलेरिया, टीबी, टाइफाइड, और हैजा की घटनाओं के साथ स्वास्थ्य सूचकांकों में काफी निचले स्तर पर है। महामारी के प्रकोप के लिए देश को सबसे अधिक जोखिम भरा माना गया है और विश्व बैंक द्वारा कोविड-19 से तैयारियों के लिए 11 मिलियन डॉलर का अनुदान भी दिया गया है।

तुर्कमेनिस्तान कैस्पियन सागर तट पर स्थित है और कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, अफगानिस्तान और ईरान से इसकी सीमा लगती है। यह एशिया में सबसे कम आबादी वाले देशों में से एक है, जहां केवल 5.6 मिलियन लोग हैं। यह देश निरंकुश भी है और मानव अधिकारों को लेकर भी निचले स्तर पर है। मानव अधिकार वॉच ने इसे ‘सबसे दमनकारी देशों’ में से एक कहा है।

तुर्कमेनिस्तान के बारे में कहा जाता है कि उसके पास अयोग्य, अक्षम श्रमिकों के साथ बेहद खराब स्वास्थ्य स्थिति है। इसने कुछ स्थानों पर प्रतिबंधलगाए हैं, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कोई भी नहीं। यहां तक ​​कि पिछले सप्ताह विश्व स्वास्थ्य दिवस पर एक सामूहिक साइकिल रैली भी यहां आयोजित की गई थी।

‘कोरोनवायरस’ शब्द पर प्रतिबंध लगने के कारण कई नागरिकों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने नोवेल कोरोनावायरस पर चर्चा करने के बारे में भी आशंका व्यक्त की है।

तुर्कमेनिस्तान में तथ्यों को दबाने का इतिहास है, विशेष रूप से सार्वजनिक स्वास्थ्य और महामारी से संबंधित, जिसमें प्लेग भी शामिल है।

अफ्रीका

अफ्रीका के जिन दो देशों में कोरोनावायरस का कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया है वो लेसोथो और कोमोरोस हैं. दोनों ही भौगोलिक तौर पर महत्व रखते हैं।

कोमोरोस एक द्वीप राष्ट्र है, जो अफ्रीकी महाद्वीप के पूर्वी तट और मेडागास्कर के बड़े द्वीप के बीच स्थित है। विश्व स्वास्थ्य संगठन कोमोरोस सरकार के साथ काम कर रहा है, जो जनवरी से वायरस की विजिटर्स की जांच कर रहा है।एक जगह पर लगभग 250 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है, लेकिन कोई भी संक्रमित नहीं पाया गया है। देश में अभी आंशिक तौर पर लॉकडाउन लागू है।

लेसोथो दक्षिण अफ्रीका के अंदर एक पूरी तरह से लैंडलॉक देश है। यह दुनिया के तीन देशों में से एक है (अन्य दो वेटिकन सिटी और सैन मैरिनो हैं) जो पूरी तरह से एक दूसरे से घिरा हुआ है. लेसोथो हाई-एल्टिट्यूड वाला देश है। यह दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है जो समुद्र तल से पूरी तरह से 1,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और इसका निम्नतम बिंदु समुद्र तल से 1,400 मीटर ऊपर है. यह ऊंचाई मई से सितंबर तक लेसोथो में रहती है।

लेसोथो 21 अप्रैल तक लॉकडाउन के तहत है, और सरकार ने आर्थिक हस्तक्षेप भी किए हैं, जिसमें सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के साथ-साथ छात्रों को भी शामिल किया गया है, ताकि देश की सुरक्षा हो सके। यह वर्तमान में विदेशों में रह रहे नागरिकों को घर वापस न आने के लिए भी कह रहा है।

ओशिनिया

ओशिनिया क्षेत्र में एक भी कोविड-19 मामला न आने वाले आठ देशों में किरिबाती, तुवालु, टोंगा, समोआ, मार्शल द्वीप, सोलोमन द्वीप, नौरू, पलाऊ, वानुअतु, और माइक्रोनेशिया के संघीय राज्यों के द्वीप हैं।

इन सभी द्वीपों में 700,000 से कम आबादी है, और इस प्रकार, खुद को बंद करने के लिए इसने बहुत जल्दी कदम उठाए. ज्यादातर देशों ने राष्ट्रीय आपात स्थिति की घोषणा की। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि इन द्वीपों में से किसी पर भी महामारी का असर होता तो आबादी का एक बड़ा हिस्सा इससे जूझता क्योंकि यहां सह-रुग्णता (को-मोर्बिडिटी) की दर (हृदय रोग, छाती की स्थिति, मधुमेह) बहुत अधिक है।

नौरू एक उदाहरण है. यह मोनाको के बाद दुनिया का सबसे छोटा देश है, और तुवालु के बाद सबसे छोटी आबादी वाला, लगभग 10,000 लोग यहां रहते हैं। यहां केवल एक अस्पताल है जिसमें कोई वेंटिलेटर नहीं है।

नौरू ने अन्य देशों के साथ-साथ आस-पास के अन्य द्वीपों के लिए उड़ानें निलंबित कर दीं और एक सप्ताह से लेकर एक पखवाड़े तक ऑस्ट्रेलिया के लिए अपनी शेष उड़ान को कम कर दिया। स्थानीय होटलों को क्वारेंटाइन जोन बना गिया गया और ऑस्ट्रेलिया से लौटने वाले किसी भी व्यक्ति को दो सप्ताह के लिए क्वारेंटाइन में रखा गया।

हालांकि द्वीप को हमेशा के लिए लॉकडाउन में नहीं रखा जा सकता है क्योंकि ये पूरी तरह से आयात पर निर्भर है।लेकिन ये कहा जा सकता है कि ये द्वीपों के समूह अंटार्टिका के बाद पृथ्वी पर वे अंतिम स्थान होंगे जहां वायरस दस्तक देगा।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,367FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles