Friday, December 2, 2022

कोरोना संकट: 12 से अधिक सरकारी बैंक दे रहे इमर्जेंसी लोन

कोरोना संकट: 12 से अधिक सरकारी बैंक दे रहे इमर्जेंसी लोन

कोरोना संकट से जूझ रहे कारोबारियों को एक दर्जन से अधिक बैंक इमर्जेंसी लोन दे रहे हैं। ऐसे कर्ज पर छह महीने तक कोई किस्‍त नहीं देनी होगी। उसके अगले छह महीनों से 7.25 फीसदी की रियायती दर से कर्ज चुकाना होगा।

नई दिल्ली
कोरोना वायरस की महामारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा किए गए लॉकडाउन के प्रतिकूल असर से कारोबारियों को उबारने के लिए एक दर्जन से अधिक सरकारी बैंकों ने इमर्जेंसी लोन की पेशकश की है। भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) इस तरह के लोन की पेशकश करने वाला पहला बैंक था। उसने अधिकतम 100 करोड़ रुपये (कारोबार के आकार के आधार पर) का इमर्जेंसी लोन लेने का विकल्‍प दिया था। ऐसे कर्ज पर छह महीने तक कोई किस्‍त नहीं देनी होगी। उसके अगले छह महीनों से 7.25 फीसदी की रियायती दर से कर्ज चुकाना होगा।

ये बैंक दे रहे इमर्जेंसी लोन
इमर्जेंसी लोन देने वाले बैंकों की सूची में एसबीआई, पंजाब नैशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, सिंडिकेट बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक तथा आंध्र बैंक शामिल हैं।

एसबीआई ने की थी शुरुआत
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने शुक्रवार को इस बारे में सर्कुलर जारी किया था, जिसमें उसने कहा था कि कोविड-19 इमर्जेंसी क्रेडिट लाइन (सीईसीएल) नाम से अतिरिक्त नकदी सुविधा की शुरुआत की गई है। इसके तहत 200 करोड़ रुपये तक की धनराशि मुहैया कराई जाएगी। यह सुविधा 30 जून 2020 तक उपलब्ध होगी। इसके तहत 12 महीने की अवधि के लिए 7.25 फीसदी की ब्याज दर पर कर्ज दिया जाएगा।

कर्ज वापसी के लिए लंबा वक्त
इंडियन बैंक के एमडी और सीईओ पद्मजा चुंदुरू ने कहा, ‘हमने इन कर्जों की वापसी के लिए लंबा समय दिया है, ताकि लोगों के पास सहूलियत रहे। जहां तक नौकरीपेशा और पेंशनरों का मामला है तो यह उनकी तत्काल की जरूरतों (चिकित्सा) और अन्य खर्चों को पूरा करेगा।’

कार्यशील पूंजी के 10% तक लोन
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एमडी और सीईओ राजकिरण राय ने कहा कि उनका बैंक उन व्‍यापारियों को भी कर्ज दे रहा है, जिनके काम पर लॉकडाउन से असर पड़ा है। यह उनकी कार्यशील पूंजी के 10 फीसदी तक दिया जाएगा।

एमएसएमई को 8% पर लोन
बैंक ऑफ बड़ौदा ने बड़ौदा कोविड इमर्जेंसी क्रेडिट लाइन शुरू की है। यह स्वीकृत लोन सीमा के 10 फीसदी तक अतिरिक्त धन मुहैया कराएगा। कॉर्पोरेट के लिए ब्याज दर स्‍टैंडर्ड प्रीमियम के बिना 8.15 फीसदी होगी। एमएसएमई को 8 फीसदी की दर से लोन मिलेगा।

कोविड इमर्जेंसी सपोर्ट स्‍कीम
बैंक ऑफ इंडिया ने व्यवसायों के लिए कोविड इमर्जेंसी सपोर्ट स्‍कीम शुरू की है। इसके तहत कॉरपोरेट अपनी मौजूदा कार्यशील पूंजी सीमा पर 20 फीसदी अतिरिक्त क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं। स्‍कीम के तहत नौकरीपेशा को उनकी अंतिम सैलरी के तीन गुना तक लोन दिया जाएगा।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
3,587FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles